कमजोर रुपए ने एक्सपोर्टर को दिया फायदा, 8-10 फीसदी बढ़े ऑर्डर

कमजोर रुपए ने एक्सपोर्टर को दिया फायदा, 8-10 फीसदी बढ़े ऑर्डर

163
0
SHARE
नई दिल्ली।रुपए अपने रिकॉर्ड लो लेवल पर पहुंय गया है। इसका भले ही घरेलू इंडस्ट्री को नुकसान उठाना पड़ रहा हो लेकिन एक्सपोर्ट को फायदा मिल रहा है। रुपए के कमजोर होने से मार्जिन घट गए हैं जिसके कारण उन्हें इंटरनेशनल मार्केट में खरीददार मिल रहे हैं। एक्सपोर्टर के अनुसार पिछले दिनों 10 दिनों में नए ऑर्डर की संख्या में 8-10 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।
रुपए में आई रिकॉर्ड गिरावट
शुक्रवार को रुपया 68.46  के स्तर पर बंद हुआ। गुरुवार के दिन रुपया अपने रिकॉर्ड लो लेवल 68.86 पर पहुंचा गया था। ग्लोबल मार्केट में डॉलर में मजबूती बनी हुई है। रुपए में गिरावट का सीधा फायदा एक्सपोर्टर को मिलता है क्योंकि उनकी पेमेंट डॉलर में होती है। उन्हें डॉलर को रुपए में कन्वर्ट करने पर ज्यादा पैसे मिलते हैं। जिन एक्सपोर्टर ने 65 रुपए में ऑर्डर बुक किए होंगे उन्हें अब 3 रुपए 86 पैसा ज्यादा मिल रहा होगा।
एक्सपोर्टर के ऑर्डर बढ़े
एशियन हैंडीक्राफ्ट प्राइवेट लिमिटेड के चेयरमैन राजकुमार मल्होत्रा ने moneybhaskar.com को बताया कि रुपए के कमजोर होने से फॉरेन बायर कीमत कम करने का दबाव बना रहे हैं। एक्सपोर्टर उनके लिए कीमतें कम कर भी रहे हैं। इसका एक फायदा मिला है कि फॉरेन बायर ने अपने ऑर्डर की संख्या बढ़ा दी है क्योंकि उनके लिए प्रोडक्ट सस्ता हो गया है। इसका फायदा एक्सपोर्टर को भी मिल रहा है। मल्होत्रा ने बताया कि एक्सपोर्ट ऑर्डर 5-10 फीसदी तक बढ़ें हैं।
एक्सपोर्टर उम्मीद कर रहे हैं 70 तक पहुंचेगा डॉलर
एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल ऑफ हैंडीक्राफ्ट (ईपीसीएच) के वाइस चेयरमैन राजेश कुमार जैन ने  moneybhaskar.com को बताया कि एक्सपोर्टर उम्मीद कर रहे हैं कि डॉलर की कीमत 70 रुपए तक जाएगी। ऐसा होने से एक्सपोर्टर को 8 से 10 फीसदी का फायदा होगा। जैन ने कहा कि डॉलर महंगा होने से एक्सपोर्टर के ऑर्डर बढ़े हैं क्योंकि बायर के लिए कॉस्ट कम हो गई है।

LEAVE A REPLY